• 11990 दृश्य
  • PDF

क्रिसमस 2020

क्रिसमस 2020 - Christmas 2020

क्रिसमस का त्यौहार बड़े लोगो और बच्चे के लिए खास होता है। क्रिसमस का त्यौहार बच्चो को बहुत दिनों से इंतजार रहता है। इस दिन सांताक्लॉज जो लाल और सफेद कपड़ो मे बच्चो के लिए ढेर सारे उपहार,चॉकलेट और टॉफी लेकर आता है। क्रिसमस पर आपको दूर से क्रिसमस ट्री नजर आ जाते है। क्रिसमस ट्री को बहुत अच्छे से सजाया जाता है। इस दिन बाजारों और मॉल मे देखने का अलग नजारा होता  है। जिससे  बाजार और मॉल मे लोगो की भीड़ होती है। 

कहा कहा मनाया जाता है क्रिसमस त्योहार - Where is christmas festival celebrated?

क्रिसमस दुनिया के अधिकतर देशो मे मनाया जाने वाला त्यौहार है। यह त्यौहार हर साल 25 दिसंबर को मनाते है क्योकि इस दिन ईसा मसीह का जन्म इसी शुभ तिथि मे हुआ था। क्रिसमस ईसाईयों का प्रमुख त्यौहार है। पर आजकल हिन्दू मे भी क्रिसमस को लेकर बहुत उत्साह रहता है। भारत वर्ष मे भी क्रिसमस बहुत प्रमुखता बढ़ती जा रही है। ईसा मसीह ऊँच नीच के भेदभाव को नहीं मानते थे। उन्होंने दुनिया को प्रेम और भाईचारे के साथ रहने का संदेश दिया था। क्रिसमस इसलिए भी बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है क्योकि उसके कुछ दिनों बाद से न्यू ईयर आ जाता है। 

क्या क्या करते है क्रिसमस त्योहार पर - What do you do on Christmas festival?

बच्चो को क्रिसमस का बहुत इंतजार रहता है और कुछ छोटे बच्चो को तो सांताक्लॉज जैसे कपड़े पहने की खुशी होती है। इस दिन बच्चो सांताक्लॉज के आने का इंतजार रहता है। यह त्यौहार ठंड के मौसम मे आता है। इस दिन स्कूल,कॉलेज बंद रहते है पर २५ दिसम्बर से पहले स्कूल मे यह त्यौहार को धूमधाम से मनाते है। ईसाई धर्म के लोग क्रिसमस से कुछ दिन पहले ही अपने घरो को लाइटे और स्टार लगाकर सजा देते है। क्रिसमस के रोनक बाजारों मे भी देखने को मिलता है। बाजारों मे क्रिसमस ट्री, केक ,सेंटाक्लाज के लाल और सफेद कपड़े, गिफ्ट आदि सामान बिकने लगते है।  क्रिसमस डे के दिन बहुत लोग चर्च जाते है और कैंडल जलाकर और प्रेयर करके ईसा - मसीह को याद करते है। इस दिन अपने घरो मे क्रिसमस ट्री को सजाते है और एक दूसरे को केक काटकर बाटा जाता है और त्यौहार की बधाई देते है।

सांताक्लॉज  के कपड़े  में व्यक्ति बच्चों को टॉफियां और गिफ्ट देकर जाता है। पूरी दुनिया में क्रिसमस आनंद और खुशियों का त्योहार है। यह लोगों को आपस में जोड़ता है। क्रिसमस का त्योहार लोगों को सबके साथ मिल-जुलकर रहने का संदेश देता है और ईसा मसीह द्वारा सिखाये गये क्षमा, भाईचारा और त्याग जैसी बातों का बोध कराता है।

क्रिसमस के त्यौहार में यह एक परंपरा है कि लोग इस दिन अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को सुन्दर ग्रीटिंग कार्ड भेजते और देते हैं। हर कोई परिवार के लोग और दोस्त रात के दावत में शामिल होते है।

इस पर्व में मिठाई,  चॉकलेट,  ग्रीटींग कार्ड,  क्रिसमस पेड़, सजावटी वस्तुएँ आदि भी पारिवारिक सदस्यों, दोस्तों, रिश्तेदार और पड़ोसियों को देने की परंपरा है। लोग पूरे मन  के साथ महीने के शुरुआत में ही इसकी तैयारियों में जुट जाते है। इस दिन को लोग गाने गाकर, नाचकर, पार्टी मनाकर, अपने प्रियजनों से मिलकर मनाते है। प्रभू ईसा, ईसाई धर्म के संस्थापक के जन्मदिवस के अवसर पर ईसाईयों द्वारा इस उत्सव को मनाया जाता है। लोगों का ऐसा मानना है कि मानव जाति की रक्षा के लिये प्रभु ईशा को धरती पर भेजा गया है।

क्या है क्रिसमस का इतिहास - What is the history of Christmas?

क्रिसमस एक पवित्र धार्मिक अवकाश और एक विश्वव्यापी सांस्कृतिक और वाणिज्य घटना दोनों है। दो सहस्राब्दी के लिए, दुनिया भर के लोग इसे परंपराओं और प्रथाओं के साथ देख रहे हैं जो प्रकृति में धार्मिक और धर्मनिरपेक्ष दोनों हैं। ईसाई नासरी के यीशु के जन्म की सालगिरह के रूप में क्रिसमस दिवस मनाते हैं, एक आध्यात्मिक नेता जिनकी शिक्षाएं उनके धर्म का आधार बनाती हैं। लोकप्रिय रीति-रिवाजों में उपहारों का आदान-प्रदान, क्रिसमस के पेड़ों को सजाने, चर्च में भाग लेने, परिवार और दोस्तों के साथ भोजन साझा करने और, निश्चित रूप से, सांता क्लॉज आने का इंतजार करना शामिल है। 

India's Top Astrologers Online - Live Astrology Consultation

India's Famous Astrologers, Tarot Readers, Numerologists on a Single Platform. Call Us Now.
Call Certified Astrologers instantly on Dial199 - India's #1 Talk to Astrologer Platform. 

Expert Live Astrologers. 100% Genuine Results.