छठ पूजा


logo min

छठ पूजा 2021 की तारीख व मुहूर्त : Chhath Puja date and date of 2021

आइए जानते हैं कि 2021 में छठ पूजा कब है और छठ पूजा की तारीख व मुहूर्त क्या रहेगी।

छठ पर्व या छठ पूजा कार्तिक शुक्ल षष्ठी को मनाया जाने वाला लोक पर्व है। इसे सूर्य षष्ठी के नाम से भी जाना जाता है। यह त्यौहार दिवाली के 6 दिन बाद मनाया जाता है। यह त्योहार मुख्य रूप से उत्तरी भारतीय राज्यों बिहार, झारखंड और पूर्वी उत्तर प्रदेश में बहुत धूमधाम से मनाया जाता है। छठ पूजा में सूर्य भगवान और छठ मैया की पूजा करने और उन्हें अर्घ्य देने का विधान है। पिछले कुछ वर्षों में, छठ पूजा को लोकपर्व के रूप में एक विशेष पहचान मिली है। यही कारण है कि अब इस त्योहार की सुंदरता बिहार और झारखंड के अलावा देश के कई हिस्सों में देखी जाती है।

छठ पर सूर्य देव और छठी मैया की पूजा का विधान

छठ पूजा में सूर्य भगवान की पूजा की जाती है और उन्हें जल चढ़ाया जाता है। सूर्य प्रत्यक्ष रूप में दिखाई देने वाले देवता है, जो पृथ्वी पर सभी प्राणियों के जीवन का आधार हैं। सूर्य देव के साथ, छठ मैया की पूजा करने का भी विधान है। पौराणिक मान्यता के अनुसार, छठी मइया या षष्ठी माता संतानों की रक्षा करती हैं और उन्हें लम्बी आयु प्रदान करती हैं।

शास्त्रों में षष्ठी देवी को ब्रह्मा जी की मानस पुत्री भी कहा गया है। पुराणों में, उन्हें माँ कात्यायनी भी कहा जाता है, जिनकी पूजा नवरात्रि में षष्ठी तीथ पर की जाती है। षष्ठी देवी को बिहार-झारखंड की भाषा में छठ मैया कहा जाता है।

छठ पूजा उत्सव

छठ पूजा चार दिनों का लोक त्योहार है। यह चार दिवसीय त्योहार है, जो कार्तिक शुक्ल चतुर्थी को शुरू होता है और कार्तिक शुक्ल सप्तमी के दिन ये त्योहार समाप्त होता है।

नहाय खाये (पहला दिन)

यह छठ पूजा का पहला दिन है। नहाय खाये का अर्थ है कि इस दिन स्नान करने के बाद घर की सफाई की जाती है और तामसिक वृत्ति से मन की रक्षा के लिए शाकाहारी भोजन ग्रहण किया जाता है।

खरना (दूसरा दिन)

खरना छठ पूजा का दूसरा दिन है। खरना का मतलब पूरे दिन के व्रत से है। इस दिन उपवास रखने वाला मनुष्य पानी की एक बूंद भी ग्रहण नहीं करता है। शाम को गुड़ की खीर, घी की रोटी और फलों का सेवन किया जाता है, साथ ही घर के अन्य सदस्यों को इसे प्रसाद के रूप में दिया जाता है।

संध्या अर्घ्य (तीसरा दिन)

छठ पर्व के तीसरे दिन, कार्तिक शुक्ल षष्ठी को शाम के समय सूर्य देव को अर्घ्य दिया जाता है। शाम के समय, अर्घ्य के सूप को फल, टोकुआ, चावल के लड्डू आदि से बांस की टोकरी में सजाया जाता है, जिसके बाद व्रती अपने परिवार के साथ सूर्य को अर्घ्य प्रदान करते हैं। अर्घ्य के समय सूर्य देव को जल और दूध चढ़ाया जाता है और छठी मइया की पूजा प्रसाद से भरे सूप से की जाती है। सूर्य देव की पूजा करने के बाद, रात में छठी माता के गीत गाए जाते हैं और व्रत कथा सुनी जाती है।

उषा अर्घ्य (चौथा दिन)

छठ पर्व के अंतिम दिन सुबह सूर्य देव को अर्घ्य दिया जाता है। इस दिन, सुबह सूर्योदय से पहले, नदी के घाट पर पहुंचते हैं और उगते सूर्य को अर्घ्य अर्पित करते हैं। इसके बाद छठ माता से संतान की रक्षा और पूरे परिवार की सुख शांति का वर मांगा जाता है। पूजा के बाद व्रती कच्चे दूध का शरबत पीकर और कुछ प्रसाद खाकर व्रत पूरा करते हैं, जिसे पारण या परना कहा जाता है।

छठ पूजा विधि

छठ पूजा से पहले, निम्नलिखित सामग्री एकत्र करें और फिर नियम के साथ सूर्य देव को अर्पित करें।

  • बांस की 3 बड़ी टोकरी, बांस या पीतल के बने 3 सूप, थाली, दूध और ग्लास
  • चावल, लाल सिंदूर, नारियल, दीपक, हल्दी, गन्ना, सब्जी, सुथनी और शकरकंदी
  • नाशपती, बड़ा नींबू, पान, शहद, साबुत सुपारी, कपूर, कैराव, चंदन और मिठाई
  • प्रसाद के रूप में ठेकुआ, खीर-पुड़ी, मालपुआ, सूजी का हलवा, चावल के बने लड्डू लें।

अर्घ्य देने की विधि- उपरोक्त सामग्री को बांस की टोकरी में रखें। सूर्य को अर्घ्य देते समय, सूप में सभी प्रसाद रखें और सूप में ही दीपक जलाएं। फिर नदी में उतरें और सूर्य भगवान को अर्घ्य अर्पित करें।

छठ पूजा से जुड़ी पौराणिक कथा

छठ पर्व पर छठ माता की पूजा की जाती है, जिसका उल्लेख ब्रह्मवैवर्त पुराण में भी है। एक पौराणिक कथा के अनुसार, पहले मनु स्वायंभुव के पुत्र राजा प्रियब्रत के कोई संतान नहीं थी। इस कारण वे दुखी रहते थे। महर्षि कश्यप ने राजा से पुत्र प्राप्ति के लिए यज्ञ करने को कहा। राजा ने महर्षि की आज्ञा के अनुसार यज्ञ किया। इसके बाद, रानी मालिनी ने एक बेटे को जन्म दिया लेकिन दुर्भाग्य से वह शिशु मृत पैदा हुआ। राजा और अन्य रिश्तेदार इस बात से बहुत दुखी थे। फिर एक विमान आकाश में उतरा जिसमें माता षष्ठी विराजमान थीं। जब राजा ने उनसे प्रार्थना की, तो उन्होंने अपना परिचय दिया और कहा - मैं ब्रह्मा की मानस पुत्री षष्ठी देवी हूं। मैं दुनिया के सभी बच्चों की रक्षा करती हूं और निःसंतानों को संतान प्राप्ति का वरदान देती हूं।”

इसके बाद, देवी ने मृत शिशु को आशीर्वाद देने के लिए हाथ रखा, जिससे वह जीवित हो गया। देवी की इस कृपा से राजा बहुत प्रसन्न हुए और षष्ठी देवी की पूजा की। ऐसा माना जाता है कि इसके बाद ही, धीरे-धीरे यह पूजा हर जगह फैल गई।

छठ पूजा का धार्मिक और सांस्कृतिक महत्व

छठ पूजा धार्मिक और सांस्कृतिक आस्था की एक लोक पर्व है। यह एकमात्र त्योहार है जिसमें सूर्य देव की पूजा की जाती है और अर्घ्य उन्हें दिया जाता है। हिंदू धर्म में सूर्य की पूजा का विशेष महत्व है। वह एक ऐसे देवता हैं जिन्हें प्रत्यक्ष रूप से देखा जाता है। वेदों में, सूर्य देव को दुनिया की आत्मा कहा जाता है। कई रोगों को नष्ट करने की क्षमता सूर्य के प्रकाश में पाई जाती है। सूर्य के शुभ प्रभावों के साथ, एक व्यक्ति चिकित्सा, तेज और आत्मविश्वास प्राप्त करता है। वैदिक ज्योतिष में सूर्य को आत्मा, पिता, पूर्वज, मान-सम्मान और उच्च सरकारी सेवा का कारक कहा गया है। छठ पूजा पर सूर्य देव और छठ माता की पूजा करने से व्यक्ति को संतान, सुख और इच्छित फल की प्राप्ति होती है। सांस्कृतिक रूप से, छठ पर्व की सबसे बड़ी विशेषता प्रकृति की सरलता, पवित्रता और प्रेम है।

खगोलीय और ज्योतिषीय दृष्टि से छठ पर्व का महत्व

वैज्ञानिक और ज्योतिषीय दृष्टिकोण से, छठ पर्व का बहुत महत्व है। कार्तिक शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि एक विशेष खगोलीय अवसर है, जिस समय सूर्य पृथ्वी के दक्षिणी गोलार्ध में स्थित होते है। इस समय के दौरान, सूर्य की पराबैंगनी किरणें पृथ्वी पर सामान्य से अधिक एकत्र होती हैं। इन हानिकारक किरणों का लोगों की आंखों, पेट और त्वचा पर सीधा प्रभाव पड़ता है। छठ पर्व पर सूर्य देव की पूजा और आराधना करने से मनुष्यों को पराबैंगनी किरणों को नुकसान नहीं पहुंचता, इस वजह से सूर्य पूजा का महत्व बढ़ जाता है।

हम आशा करते हैं कि छठ पूजा पर आधारित यह लेख आपको पसंद आया होगा। हमारी ओर से सभी पाठकों को छठ पर्व की शुभकामनाएँ!

2021 में छठ पूजा कब है?

छठ पूजा 2021 मुहूर्त

बुधवार, 10 नवंबर, 2021

10 नवंबर (संध्या अर्घ्य) सूर्यास्त का समय : 17:30:16

11 नवंबर (उषा अर्घ्य) सूर्योदय का समय : 06:40:10