अषाढ़ी एकादशी/देवशयनी एकादशी


logo min

देवशयनी एकादशी 2021 : अषाढ़ी एकादशी मुहूर्त, महत्व, मंत्र, पूजा विधि और कथा

आइए जानते हैं कि 2021 में आषाढ़ी एकादशी कब है और आषाढ़ी एकादशी 2021 किस तिथि और मुहूर्त पर है। एकादशी चंद्र मास में ग्यारहवीं तिथि को कहा जाता है। प्रत्येक चंद्र मास में दो एकादशी होती हैं, शुक्ल पक्ष की एकादशी और कृष्ण पक्ष की एकादशी। यह तिथि भगवान विष्णु जी को समर्पित है। आषाढ़ मास में शुक्ल पक्ष की एकादशी को आषाढ़ी एकादशी कहा जाता है। इसे देवशयनी एकादशी, हरिशयनी और पद्मनाभ एकादशी आदि के नाम से भी जाना जाता है। आषाढ़ी एकादशी अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार जून या जुलाई के महीने में आती है।

यह भगवान विष्णु का शयन काल होता है। पुराणों के अनुसार, इस दिन आषाढ़ी एकादशी के दिन से भगवान विष्णु चार महीने के लिए क्षीरसागर में सोते हैं इसलिए इसे हरिशयनी एकादशी कहा जाता है। इस दिन से चातुर्मास हो जाते हैं।

आषाढ़ी एकादशी पूजा विधि

एकादशी तिथि पर भगवान विष्णु जी की पूजा की जाती है। आषाढ़ी एकादशी या देवशयनी एकादशी पर, अनुष्ठान से पहले भगवान विष्णु बड़ी विधि-विधान से पूजा करने का बहुत महत्व है। इस दिन, भक्त उपवास रखते हैं और भगवान विष्णु की पूजा करते हैं।

  • जो भक्त देवशयनी एकादशी के व्रत का पालन करते हैं, उन्हें सुबह जल्दी उठकर स्नान करना चाहिए।
  • पूजा स्थल को साफ करने के बाद भगवान विष्णु की मूर्ति को आसन पर बैठकर भगवान का षोडशोपचार पूजन करना चाहिए।
  • भगवान विष्णु को पीले वस्त्र, पीले फूल, पीले वस्त्र, पीले चंदन चढ़ाएं। उनके हाथों में शंख, चक्र, गदा और पद्म सुशोभित करें।
  • भगवान विष्णु को पान और सुपारी चढ़ाने के बाद धूप, दीप और फूल चढ़ाएं और आरती करें और इस मंत्र से भगवान विष्णु की प्रशंसा करें…

    ‘सुप्ते त्वयि जगन्नाथ जमत्सुप्तं भवेदिदम्।
    विबुद्धे त्वयि बुद्धं च जगत्सर्व चराचरम्।।

    इसका मतलब है, भगवान जगन्नाथ! जब आप नींद में हो जाते हैं, तो पूरी दुनिया सो जाती है और जब आप जागते हैं, तो पूरी दुनिया भी जागृत हो जाते हैं।
     
  • इस प्रकार भगवान विष्णु जी की पूजा करने के बाद, ब्राह्मणों को भोजन कराये उसके बाद स्वयं भोजन या फल ग्रहण करें।
  • देवशयनी एकादशी पर, रात्रि में भगवान विष्णु जी की पूजा और स्तुति करनी चाहिए और सोने से पहले भगवान को विश्राम करना चाहिए।

आषाढ़ी एकादशी का महत्व और चातुर्मास

आषाढ़ी एकादशी या देवशयनी एकादशी भगवान विष्णु का शयन काल है। इस दिन को चौमासे की शुरुआत माना जाता है। क्योंकि भगवान विष्णु जी चार महीने तक नींद में रहते हैं, इसलिए इस समय शादी समारोह ऐसे कई शुभ काम वर्जित माने जाते हैं। इन दिनों में, तपस्वी यात्रा नहीं करते हैं, वे एक स्थान पर रहते हैं और तपस्या करते हैं। इन दिनों में केवल ब्रज का सफर किया जा सकता है। क्योंकि इन चार महीनों में पृथ्वी के सभी तीर्थ ब्रज में आकर रहते हैं। आषाढ़ी एकादशी के चार महीने बाद भगवान विष्णु जी नींद से जागते हैं, इस समय को प्रबोधिनी एकादशी या फिर  देवउठनी एकादशी के नाम से भी जाना जाता है।

चातुर्मास में क्या करें, क्या ना करें…

  1. मीठे स्वर के लिए गुड़ का सेवन न करें।
  2. दीर्घायु या पुत्र-पौत्रादि की प्राप्ति के लिए तेल का त्याग करें।
  3. परिवार की वृद्धि के लिए नियमित दूध का सेवन करें।
  4. बिस्तर पर नहीं सोना चाहिए।
  5. शहद, मूली, परवल और बैंगन न खाएं।
  6. किसी और के द्वारा दिए गए दही और चावल का सेवन न करें।

आषाढ़ी एकादशी का पौराणिक महत्व

सतयुग में मान्धाता नाम के एक चक्रवर्ती सम्राट ने शासन करते थे। उसके राज्य में लोग बड़े सुख और आनंद के साथ रहते थे। एक समय राज्य में लगातार 3 साल तक वर्षा नहीं होने के कारण भीषण अकाल पड़ा गया। जनता व्याकुल हो गई और चारों तरफ महामारी फ़ैल गई। लोगो की दयनीय स्थिति को देखकर, राजा ने समाधान खोजने के लिए जंगल की ओर प्रस्थान किया। इस दौरान, राजा मान्धाता अंगिरा ऋषि के आश्रम में पहुंचे। राजा के वचन सुनकर अंगिरा ऋषि ने कहा, राज्य वापस जाओ और देवशयनी एकादशी के व्रत का पालन करो। इस उपवास के प्रभाव से राज्य में अवश्य  वर्षा होगी। अंगिरा ऋषि की बात मानकर राजा मान्धाता राज्य में वापस लौट आये। राजा ने विधि-विधान से देवशयनी एकादशी के व्रत का पालन किया, इसके प्रभाव के कारण अच्छी वर्षा हुई और पूरा राज्य धन-धान्य से भर गया।

पुराणों में आषाढी एकादशी का विशेष महत्व है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन भगवान विष्णु जी की पूजा और व्रत करने से सभी इच्छाएं पूरी होती हैं और भगवान भक्त से खुश होते हैं।

हमें आशा है कि आपको आषाढ़ी एकादशी पर हमारा लेख पसंद आया होगा। जगत पिता भगवान विष्णु जी आपकी सभी इच्छाओं को परिपूर्ण करे।

2021 में अषाढ़ी एकादशी/देवशयनी एकादशी कब है?

आषाढ़ी एकादशी 2021 मुहूर्त

मंगलवार, 20 जुलाई, 2021

आषाढ़ी एकादशी पारणा मुहूर्त : 05:35:57 से 08:20:29 तक 21, जुलाई को

अवधि : 2 घंटे 44 मिनट