गोवर्धन पूजा


logo min

गोवर्धन पूजा 2021 की तारीख व मुहूर्त : Govardhan Puja date and date of 2021

आइए जानते हैं कि 2021 में गोवर्धन पूजा कब है और गोवर्धन पूजा की तारीख व मुहूर्त क्या होगा। हिंदू धर्म में गोवर्धन पूजा का बहुत महत्व है। इस उत्सव का सीधा संबंध प्रकृति और मानव से है। गोवर्धन पूजा या अन्न कूट का त्यौहार हिंदू पंचांग के अनुसार कार्तिक मास में शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा यानि दिवाली के अगले दिन मनाया जाता है। यह त्यौहार पुरे भारत में मनाया जाता है लेकिन उत्तर भारत में खासकर ब्रज भूमि (मथुरा, वृंदावन, नंदगांव, गोकुल, बरसाना आदि) पर इसकी भव्यता और बढ़ जाती है, जहां स्वयं भगवान श्री कृष्ण ने गोकुल के लोगों को गोवर्धन पूजा के लिए प्रेरित किया था और देवराज इंद्र के घमंड को चूर किया था।

गोवर्धन पूजा की तिथि और शास्त्रोक्त नियम

गोवर्धन पूजा कार्तिक माह में शुक्ल पक्ष प्रतिपदा को मनाई जाती है। इसकी गणना निम्न प्रकार से की जा सकती है।

  1. गोवर्धन पूजा कार्तिक शुक्ल प्रतिपदा के दिन मनाई जानी चाहिए लेकिन यह पुष्टि होनी चाहिए कि इस दिन शाम के समय कोई चंद्र दर्शन न हो।
  2. यदि कार्तिक शुक्ल प्रतिपदा के दिन शाम को सूर्यास्त के समय चंद्र दर्शन होने जा रहे हैं, तो पहले दिन गोवर्धन पूजा की जानी चाहिए।
  3. यदि सूर्य उदय के समय प्रतिपदा तिथि लगती है और चंद्र दर्शन न हो, तो उसी दिन गोवर्धन पूजा मनाई जानी चाहिए। यदि ऐसा नहीं है, तो पहले दिन गोवर्धन पूजा वैध होगी।
  4. जब प्रतिपदा तिथि सूर्योदय के बाद कम से कम 9 मुहूर्त के लिए मौजूद हो, भले ही उस दिन चंद्र दर्शन शाम को हो, लेकिन स्थूल चंद्र दर्शन का अभाव माना जाता है। ऐसे में उसी दिन गोवर्धन पूजा मनाई जानी चाहिए।

गोवर्धन पूजा के नियम और विधि

गोवर्धन पूजा का भारतीय सार्वजनिक जीवन में बहुत महत्व है। इस दिन वेदों में, वरुण, इंद्र, अग्नि आदि देवताओं की पूजा करने का विधान है। इस दिन गोवर्धन पर्वत, गोधन यानी गाय और भगवान श्री कृष्ण जी की पूजा का बहुत महत्व है। यह त्योहार मानव जाति को एक संदेश देता है कि हमारा जीवन प्रकृति द्वारा प्रदत्त संसाधनों पर निर्भर है और इसके लिए हमें उनका धन्यवाद और सम्मान करना चाहिए। गोवर्धन पूजा के माध्यम से, हम सभी प्राकृतिक संसाधनों को श्रद्धांजलि देते हैं।

  1. गोवर्धन पूजा के दिन गोवर्धन को गाय के गोबर से बनाया जाता है और फूलों से सजाया जाता है। गोवर्धन पूजा सुबह या शाम को की जाती है। पूजा के दौरान गोवर्धन को धूप, दीप, नैवेद्य, जल, फल आदि अर्पित करने चाहिए। इस दिन, कृषि कार्य में उपयोग किए जाने वाले मवेशियों और जानवरों की पूजा की जाती है।
  2. गोवर्धन जी को गोबर से बने हुए मनुष्य के रूप में बनाया जाता है। नाभि के स्थान पर मिट्टी का दिया रखा जाता है। इस दीप में पूजा के दौरान दूध, दही, गंगाजल, शहद, बताशा आदि डाला जाता है और बाद में प्रसाद के रूप में वितरित किया जाता है।
  3. पूजा के बाद, सात परिक्रमा करते हुए गोवर्धन जी का जाप किया जाता है। परिधि के समय, हाथ में लोटे से जल गिराते हुए और जौ बोते हुए परिक्रमा पूरी की जाती है।
  4. गोवर्धन गिरी को भगवान रूप में माना जाता है और इस दिन घर में उनकी पूजा करने से धन, संतान और गौ रस  बढ़ता है।
  5. गोवर्धन पूजा के दिन भगवान विश्वकर्मा की भी पूजा की जाती है। इस अवसर पर सभी कारखानों और उद्योगों में मशीनों की पूजा की जाती है।

गोवर्धन पूजा पर होने वाले आयोजन

  1. गोवर्धन पूजा प्रकृति और भगवान श्री कृष्ण को समर्पित त्योहार है। गोवर्धन पूजा के अवसर पर देश भर के मंदिरों में धार्मिक आयोजन और अन्नकूट यानी भंडारे का आयोजन किया जाता है। पूजा के बाद प्रसाद के रूप में लोगों में भोजन वितरित किया जाता है।
  2. गोवर्धन पूजा के दिन गोवर्धन पर्वत की परिक्रमा लगाने का बहुत महत्व माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि परिक्रमा करने से भगवान कृष्ण का आशीर्वाद मिलता है।

गोवर्धन पूजा से जुड़ी पौराणिक कथा

गोवर्धन पूजा का महत्व विष्णु पुराण में वर्णित है। कहा जाता है कि देवराज इंद्र को अपनी शक्तियों पर गर्व था और भगवान कृष्ण ने इंद्र के अहंकार को तोड़ने के लिए एक लीला रची। इस कथा के अनुसार, एक समय गोकुल में लोग विभिन्न प्रकार के व्यंजन बना रहे थे और आनंद से गीत गा रहे थे। यह सब देखकर बाल कृष्ण ने यशोदा माता से पूछा कि आप किस त्योहार की तैयारी कर रहे हैं। कृष्ण के सवाल पर, माँ यशोदा ने कहा कि, हम देवराज इंद्र की पूजा कर रहे हैं। माता यशोदा के उत्तर पर, कृष्ण ने फिर पूछा कि हम देवराज इंद्र की पूजा क्यों करते हैं। तब यशोदा माँ ने कहा कि, इंद्र देव की कृपा से अच्छी बारिश होती है और भोजन का उत्पादन होता है, हमारी गायों को चारा मिलता है। माता यशोदा की बात सुनकर कृष्ण ने कहा कि यदि ऐसा है तो हमें गोवर्धन पर्वत की पूजा करनी चाहिए। क्योंकि हमारी गाय वहां चरती है, वहां पेड़-पौधों के कारण बारिश होती है। कृष्ण की बात मानकर सभी गोकुल वासी गोवर्धन पर्वत की पूजा करने लगे। यह सब देखकर देवराज इंद्र को गुसा आया और अपने अपमान का बदला लेने के लिए मूसलाधार बारिश शुरू कर दी। विनाशकारी बारिश को देखकर गोकुल के सभी निवासी घबरा गए। इस दौरान, भगवान श्री कृष्ण ने अपनी लीला दिखाई और गोवर्धन पर्वत को एक छोटी उंगली पर उठा लिया और सभी ग्रामीणों को पर्वत के नीचे बुलाया। यह देखकर, इंद्र ने बारिश को और अधिक तीव्र कर दिया, लेकिन 7 दिनों तक लगातार मूसलाधार बारिश के बावजूद, गोकुल के लोगों को नुकसान नहीं हुआ। इसके बाद, इंद्र ने महसूस किया कि प्रतिस्पर्धा करने वाला कोई साधारण व्यक्ति नहीं हो सकता है। जब इंद्र को पता चला कि वह भगवान श्री कृष्ण का सामना कर रहे हैं, इसके बाद, इंद्र ने भगवान कृष्ण से माफी मांगी और खुद मुरलीधर की पूजा की। इस पौराणिक घटना के बाद से गोवर्धन पूजा शुरू हुई।

गोवर्धन पूजा के दिन गोवर्धन पर्वत की परिक्रमा के लिए विशेष महत्व है। गोवर्धन पर्वत उत्तर प्रदेश के मथुरा जिले में स्थित है। जहां हर साल देश और दुनिया से लाखों भक्त गोवर्धन पर्वत की परिक्रमा के लिए पहुंचते हैं।

गोवर्धन पूजा पर अन्नकूट उत्सव

गोवर्धन पूजा के अवसर पर मंदिरों में अन्न कूट का आयोजन किया जाता है। अन्न कूट कई प्रकार के अन्न का मिश्रण है, जिसे भगवान कृष्ण को अर्पित किया जाता है। कुछ स्थानों पर, विशेष रूप से बाजरे की खिचड़ी बनाई जाती है, साथ ही तेल की पुरी आदि बनाने की परंपरा के साथ-साथ, अन्न कूट के साथ, दूध से बने मीठे और स्वादिष्ट व्यंजन भोग में चढ़ाए जाते हैं। पूजा के बाद, इन व्यंजनों को प्रसाद के रूप में भक्तों को वितरित किया जाता है। कई मंदिरों में, जगराते को अन्न कूट उत्सव के दौरान किया जाता है और भगवान श्री कृष्ण की पूजा की जाती है और उनके सुखी जीवन की कामना की जाती है।

2021 में गोवर्धन पूजा कब है?

गोवर्धन 2021 पूजा मुहूर्त

शुक्रवार, 5 नवंबर, 2021

गोवर्धन पूजा प्रातःकाल मुहूर्त : 06:35:38 से 08:47:12 तक

अवधि : 2 घंटे 11 मिनट

गोवर्धन पूजा सायंकाल मुहूर्त : 15:21:53 से 17:33:27 तक

अवधि : 2 घंटे 11 मिनट