ज्येष्ठ पूर्णिमा व्रत


logo min

ज्येष्ठ पूर्णिमा आज 24, जून, 2021, गुरुवार : Jyestha Purnima 2021

ज्येष्ठ के महीने में पूर्णिमा का हिंदू धर्म में बहुत महत्व है। धार्मिक दृष्टिकोण से, पूर्णिमा के दिन नहाने और दान करने की परम्परा है। इस दिन जो व्यक्ति गंगा में स्नान करता है उसकी सारी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। ऐसा माना जाता है कि ऐसा करने से मनुष्य के सभी पाप नष्ट हो जाते हैं। इसके साथ ही इस दिन दान करने से पूर्वजों को भी लाभ होता है और उन्हें मोक्ष की प्राप्ति होती है। इसलिए महिलाओं को विशेष रूप से इस दिन उपवास रखने की सलाह दी जाती है। इस दिन विशेष रूप से भगवान शंकर और भगवान विष्णु जी की प्रार्थना की जानी चाहिए।

ज्येष्ठ पूर्णिमा व्रत का महत्व और पूजा विधि तथा उपाय

ज्येष्ठ पूर्णिमा पर स्नान, ध्यान और अच्छे काम करने का विशेष महत्व है। इसके साथ ही यह दिन उन लोगों, युवक और युवतियों के लिए भी बहुत शुभ है जो शादी के बंधन में बंधने से किसी प्रकार की बाधा में है। अगर ऐसे लोग इस दिन सफेद वस्त्र धारण कर शिव अभिषेक करते हैं और भगवान शिव की पूजा करते हैं, तो उनके विवाह में आने वाली सभी परेशानियां दूर हो जाती है। विशेषज्ञों के अनुसार, कोई भी व्यक्ति ज्येष्ठ पूर्णिमा के दिन कुछ विशेष उपाय करके इस शुभ तिथि से शुभ लाभ ले सकता है, आइए जानते हैं ज्येष्ठ पूर्णिमा के उपाय: -

  • इस विशेष दिन पीपल के पेड़ पर माँ लक्ष्मी और भगवान विष्णु का वास होता है। इसलिए, यदि कोई मनुष्य लोटे में पानी भर कर उसमें कच्चा दूध और बताशा डालकर पीपल के पेड़ को अर्पित करता है, तो इससे उस व्यक्ति का रुका हुआ धन वापस मिलेगा और उसे व्यापार में भी लाभ मिलेगा।
  • इस दिन दंपति को चंद्र देव को दूध अर्पित करना चाहिए। इससे उनके जीवन में आने वाली हर छोटी और बड़ी परेशानी हल हो जाती है। यह काम पति या पत्नी कोई भी कर सकता है।
  • आज रात अगर कोई कुएं में चम्मच दूध डालें तो उसकी किस्मत चमक जाती है। साथ ही, अगर उसे किसी महत्वपूर्ण काम में कोई बाधा आ रही है, तो वह भी जल्दी दूर हो जाता है।
  • यदि किसी मनुष्य की जन्म कुंडली में कोई ग्रह दोष है, तो आज के दिन पीपल और नीम की त्रिवेणी के नीचे विष्णु सहस्रनाम या शिवाष्टक का पाठ करना श्रेष्ठ होगा।
  • ज्येष्ठ पूर्णिमा के दिन मां लक्ष्मी की तस्वीर पर 11 कौड़ी डालनी चाहिए और उस पर हल्दी से तिलक लगाना चाहिए। इसके बाद, अगली सुबह उन्हें एक लाल कपड़े में बाँध लें और उन्हें अपने लॉकर में रखें। ऐसा करने से, आपकी वित्तीय स्थिति में सुधार होता है।

ज्येष्ठ पूर्णिमा का महत्व

हिंदू धर्म में ज्येष्ठ पूर्णिमा का बहुत महत्व है। आमतौर पर इस दिन से भक्त गंगा जल लेकर अमरनाथ यात्रा के लिए जाते हैं। हिंदू कैलेंडर के अनुसार, पहला महीना हिंदू वर्ष का तीसरा महीना है। इस समय के दौरान, पृथ्वी पर तीव्र गर्मी होती है और कई नदियाँ और तालाब सूख जाते हैं या उनका जल स्तर घट जाता है। इसलिए, अन्य महीनों की मुकाबले इस महीने में पानी का महत्व ज्यादा बढ़ जाता है। ज्येष्ठ के महीने में, गंगा दशहरा, निर्जला एकादशी जैसे कुछ त्योहारों के माध्यम से, ऋषियों और संतों ने हमें पानी के महत्व को पहचानने और इसका अच्छा उपयोग करने का संदेश दिया है।

2021 में ज्येष्ठ पूर्णिमा व्रत कब है?

ज्येष्ठ पूर्णिमा व्रत 2021 मुहूर्त

गुरुवार, 24 जून, 2021

जून 24, 2021 को 03:34:39 से पूर्णिमा आरम्भ

जून 25, 2021 को 00:11:28 पर पूर्णिमा समाप्त