कामिका एकादशी


logo min

कामिका एकादशी आज, शुभ मुहूर्त में इस विधि से रखें एकादशी व्रत : Kamika Ekadashi 2021

कामिका एकादशी को पवित्रा एकादशी के नाम से भी जाना जाता है। इस दिन भगवान विष्णु जी के रूप की आराधना की जाती है। इस एकादशी उपवास का पालन करने से पिछले जन्म की बाधाएं दूर होती हैं। इस पवित्र एकादशी के लाभ को लोक और परलोक दोनों में उत्कृष्ट कहा जाता है। क्योंकि इस उपवास का पालन करने से हजार गौ दान जैसे पुण्य की प्राप्ति होती है और जीवन में सुख-समृद्धि प्राप्त होती है।

कामिका एकादशी व्रत पूजा विधि

एकादशी पर किया गया व्रत सभी पापों और कष्टों को नष्ट करके सभी प्रकार के सुख और समृद्धि देता है। कामिका एकादशी के व्रत की विधि इस प्रकार है:

  1. इस दिन सुबह स्नान करने के बाद पहले व्रत का संकल्प लें और भगवान विष्णु की पूजा शुरू करें।
  2. पूजा में भगवान को फल, फूल, तिल, दूध, पंचामृत आदि चढ़ाएं।
  3. व्रत के दिन भगवान विष्णु के नाम का स्मरण करें और भजन-कीर्तन करें। विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ जरूर करें।
  4. एकादशी के अगले दिन यानी द्वादशी के दिन ब्राह्मण को भोजन और दक्षिणा दें। इसके बाद ही भोजन करे।

कामिका एकादशी का महत्व

कामिका एकादशी पर भगवान विष्णु जी की पूजा करना बहुत लाभकारी माना जाता है। इस उपवास के प्रभाव के कारण सबके बिगड़े काम बनने लगते हैं। इस दिन भगवान विष्णु जी की पूजा करने से उनके पूर्वजों के साथ साथ भक्तों के कष्ट भी दूर होते हैं। कामिका एकादशी के अवसर पर तीर्थ स्थानों पर नदी, कुंड और सरोवर में स्नान करना अश्वमेध यज्ञ के समान फल मिलता है।

यदि आप श्री विष्णु की को संतुष्ट करना चाहते हैं, तो तुलसी के पत्तों से उनकी पूजा करें। ऐसा करने से न केवल भगवान प्रसन्न होंगे बल्कि आपके सारे परेशानिया दूर हो जाएंगे। कामिका एकादशी उपवास की कथा सुनना एक यज्ञ करने के बराबर है।

कामिका एकादशी व्रत कथा

महाभारत काल के दौरान, धर्मराज युधिष्ठिर ने श्रीकृष्ण से कहा, "भगवान, कृपया मुझे कामिका एकादशी का महत्व और वर्णन बताएं।" भगवान कृष्ण ने कहा कि "इस एकादशी व्रत की कथा स्वयं भगवान ब्रह्मा ने देवर्षि नारद को सुनाई थी। सुना था, अत: मैं भी तुम्हे वही सुनाता हूं।"

एक समय नारद जी ने ब्रह्मा से कामिका एकादशी की कथा सुनने की इच्छा व्यक्त की। ब्रह्मा जी ने कहा- "हे नारद! बस कामिका एकादशी व्रत की कथा सुनने भर से ही वाजपेय यज्ञ करने जितना फल प्राप्त होता है। इस तिथि पर शंख, चक्र और गदा से भगवान विष्णु जी की पूजा की जाती है।

गंगा, काशी, नैमिषारण्य और पुष्कर जैसे तीर्थों में स्नान करने से वे फल प्राप्त होता है, वही फल भगवान विष्णु जी की पूजा से भी मिलता हैं। पापों से भयभीत मनुष्य को कामिका एकादशी के व्रत का पालन जरूर करना चाहिए। प्रभु ने स्वयं कहा है कि कामिका एकादशी का उपवास करने से कोई भी प्राणी कुयोनी में पैदा नहीं होता है। इस एकादशी पर, हर व्यक्ति जो श्रद्धा-भक्ति के साथ भगवान विष्णु को तुलसी पत्र चढ़ाता है, उसे पुण्य फल प्राप्त होता है।

2021 में कामिका एकादशी कब है?

कामिका एकादशी व्रत 2021 मुहूर्त

बुधवार, 4 अगस्त, 2021

कामिका एकादशी पारणा मुहूर्त : 05:44:22 से 08:25:23 तक 5, अगस्त को

अवधि : 2 घंटे 41 मिनट

कामिका एकादशी व्रत 2021 मुहूर्त

बुधवार, 4 अगस्त, 2021

कामिका एकादशी पारणा मुहूर्त : 05:44:22 से 08:25:23 तक 5, अगस्त को

अवधि : 2 घंटे 41 मिनट