कार्तिक अमावस्या


logo min

कार्तिक अमावस्या 2021: Karthik Amavasya 2021

दीपावली का त्यौहार कार्तिक माह की अमावस्या को मनाया जाता है। दिवाली मनाने के साथ ही इस दिन पूर्वजो के तर्पण और दान के कार्यों का भी बड़ा महत्व है। पौराणिक मान्यता के अनुसार, महाभारत के शांति पर्व में, भगवान श्री कृष्ण ने स्वयं कार्तिक अमावस्या के दिन का महत्व बताया है और कहा है कि 'यह मेरा पसंदीदा दिन है और इस दिन मेरी पूजा से मेरे सभी ग्रह दोष दूर हो जाएंगे'।

कार्तिक अमावस्या व्रत और धार्मिक कर्म

महाभारत के शांति पर्व में, कार्तिक अमावस्या के बारे में स्वयं कहे गए भगवान कृष्ण के शब्दों से इसका महत्व और भी अधिक बढ़ जाता है।

  • इस दिन सुबह जल्दी उठकर किसी नदी, जलाशय या पवित्र सरोवर में स्नान करें और सूर्य भगवान को अर्घ्य देने के बाद बहते पानी में तिल छोड़े करें।
  • ग्रह दोषों और नवग्रहों की शांति के लिए सुबह जड़ी उठ कर नवग्रह स्त्रोत का पाठ करें।
  • इस दिन विष्णु सहस्त्रनाम के जाप की विशेष महिमा है। चाहे कुंडली में योग कितना भी खराब क्यों न हो, वह दूर हो जाता है।
  • कार्तिक अमावस्या पर मंदिर या गरीब व्यक्ति के घर पर दीपक जलाने से शनि से संबंधित कष्ट दूर होते हैं।
  • कार्तिक अमावस्या के दिन शिवलिंग का शहद से अभिषेक करना चाहिए।

कार्तिक अमावस्या पर दीप जलाने का महत्व

कार्तिक अमावस्या पर दिवाली की रात दीये जलाने की परंपरा है। यह माना जाता है कि इस दिन भगवान श्री राम वनवास के बाद अयोध्या लौटे थे और इस खुशी में, अयोध्या के लोगों ने घर-घर दीप जलाकर खुशियाँ मनाईं। हालाँकि, दीवाली पर दीया जलाने के बारे में एक और मान्यता है। कहा जाता है कि पितृ पक्ष में जब पितृगण धरती पर आते हैं तो उन्हें पुनः पितृ लोक पहुंचने में परेशानी न हो, इसलिये दीयों से प्रकाश किया जाता है। हालांकि इस प्रथा का प्रचलन विशेष रूप से बंगाल में है।

2021 में कार्तिक अमावस्या कब है?

कार्तिक अमावस्या 2021 मुहूर्त

गुरुवार, 4 नवंबर, 2021

नवंबर 4, 2021 को 06:06:05 से अमावस्या आरम्भ

नवंबर 5, 2021 को 02:47:01 पर अमावस्या समाप्त