कार्तिक पूर्णिमा व्रत


logo min

कार्तिक पूर्णिमा व्रत 2021 : Kartik Purnima fast

पूर्णिमा जो कार्तिक महीने में पड़ती है वो कार्तिक पूर्णिमा कहलाती है। इस दिन महादेव जी ने त्रिपुरासुर नामक राक्षस का वध किया था, इसलिए इसे 'त्रिपुरी पूर्णिमा' के नाम से भी जाना जाता है। यदि इस दिन कृतिका नक्षत्र है तो यह 'महाकार्तिकी' कहलाती है। वहीं भरणी नक्षत्र होने पर इस पूर्णिमा का विशेष फल प्राप्त होता है। रोहिणी नक्षत्र की वजह से इसका महत्व और बढ़ जाता है।

ऐसा माना जाता है कि कार्तिक पूर्णिमा की शाम को भगवान विष्णु का मत्स्यावतार हुआ था। इस दिन गंगा में स्नान करने के बाद दीप-दान का फल दस यज्ञों के समान होता है। ब्रह्मा, विष्णु, शिव, अंगिरा और आदित्य ने इसे महापुनीत पर्व कहा है।

कार्तिक पूर्णिमा व्रत और धार्मिक कर्म

कार्तिक पूर्णिमा पर गंगा स्नान, दीप दान, होम, यज्ञ और भगवान की पूजा का बहुत महत्व है। इस दिन किए जाने वाले धार्मिक अनुष्ठान इस प्रकार हैं:

  • पूर्णिमा के दिन सुबह जल्दी उठकर किसी पवित्र नदी, सरोवर या कुंड में स्नान करें।
  • इस दिन शिव, संभुति, शांति, प्रीति, अनुसुईया और क्षमा इन छः कृतिकाओं की पूजा करनी चाहिए।
  • कार्तिक पूर्णिमा से शुरू होकर रात में हर पूर्णिमा का व्रत और जागरण करना सभी सार्थक सिद्ध होता है।
  • कार्तिक पूर्णिमा का व्रत रखने वाले मनुष्य को किसी जरुरतमंद को भोजन और हवन अवश्य कराना चाहिए।
  • इस दिन यमुना जी पर कार्तिक स्नान का समापन करके राधा-कृष्ण का पूजन और दीपदान करना चाहिए।

कार्तिक पूर्णिमा का महत्व

कार्तिक महीने में पड़ने वाली पूर्णिमा साल के पवित्र पुराणों में से एक है। इस दिन किया गया दान और अच्छे काम विशेष रूप से फलदायी होता है। यदि इस दिन कृतिका नक्षत्र पर चंद्रमा और विशाख नक्षत्र पर सूर्य हो तो पद्मक योग बनता है, जो अत्यंत दुर्लभ है। इसी दिन, कृतिका नक्षत्र में चंद्रमा और बृहस्पति इस दिन हों तो इसे महापूर्णिमा कहा जाता है। इस दिन, शाम के दौरान, त्रिपुरोत्सव करके दीपदान करने से पुनर्जन्म का कष्ट नहीं होता है।

कार्तिक पूर्णिमा की पौराणिक कथा

प्राचीन काल में एक समय में, त्रिपुर राक्षस ने एक लाख वर्षों तक प्रयागराज में घोर तपस्या की। उनकी तपस्या के प्रभाव के कारण सभी जड़-चेतन, जीव और देवता भयभीत हो गए। देवताओं ने तप को तोड़ने के लिए अप्सराएँ भेजीं लेकिन सफल नहीं हो सके। त्रिपुर राक्षस के तप से प्रसन्न होकर ब्रह्मा स्वयं उनके समक्ष प्रकट हुए और वरदान मांगने को कहा।

त्रिपुरा ने वरदान मांगा, ‘मैं न देवताओं के हाथों मरूं, न मनुष्यों के हाथों से’। इस वरदान शक्ति मिलने क बाद, त्रिपुर निर्भय होकर अत्याचार करने लगा। यही नहीं, उसने कैलाश पर्वत पर भी चढ़ाई की। इसके बाद भगवान शंकर और त्रिपुर के बीच युद्ध हुआ। अंत में, भगवान ब्रह्मा और भगवान विष्णु की मदद से शिव जी ने त्रिपुर का वध किया।

2021 में कार्तिक पूर्णिमा व्रत कब है?

कार्तिक पूर्णिमा व्रत 2021 मुहूर्त

शुक्रवार, 19 नवंबर, 2021

नवंबर 18, 2021 को 12:02:50 से पूर्णिमा आरम्भ

नवंबर 19, 2021 को 14:29:33 पर पूर्णिमा समाप्त