करवा चौथ


logo min

करवा चौथ 2021 की तारीख व मुहूर्त | Karva Chauth 2021 date and Muhurta

आइए जानते हैं कि 2021 में करवा चौथ कब है और करवा चौथ की तारीख व मुहूर्त क्या रहेगी। करवा चौथ का त्योहार कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को मनाया जाता है। इस दिन विवाहित महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए उपवास रखती हैं। इसके साथ ही, अच्छे वर की कामना करके अविवाहित स्त्रियों भी करवा चौथ का उपवास रखती है। यह त्योहार पूरे उत्तर भारत में जोर-शोर से मनाया जाता है।

करवा चौथ व्रत के नियम

  1. यह व्रत सूर्योदय से पहले शुरू होता है और चंद्रमा निकलने तक रहता है और इसे चंद्रमा के दर्शन के बाद ही उपवास खोला जाता है।
  2. संपूर्ण शिव-परिवार (शिव जी, पार्वती जी, नंदी जी, गणेश जी और कार्तिकेय जी) की पूजा चंद्रोदय से 1 घंटे पहले शाम को की जाती है।
  3. पूजा के समय देवता की मूर्ति का मुख पश्चिम की ओर होना चाहिए और महिला को पूर्व की ओर मुंह करके बैठना चाहिए।

करवा चौथ कथा

करवा चौथ उपवास कथा के अनुसार, एक साहूकार के 7 बेटे और एक बेटी जिसका नाम करवा था। एक बार करवा चौथ के दिन उनके घर में उपवास रखा गया। जब सभी ने रात में खाना शुरू किया, तो करवा के भाइयों ने उसे खाने का आग्रह किया। करवा खाने से मना करती है, कहती है कि चंद्रमा अभी तक बाहर नहीं आया है और वह चंद्रमा को अर्पित करके ही भोजन करेगी। भूखी-प्यासी बहन की हालत सुबह से ही उसके भाइयों से देखी नहीं गई। सबसे छोटे भाई ने एक पीपल के पेड़ में एक दीपक जलाया और अपनी बहन से कहा - उपवास खोलो देखो चांद निकल आया है।

बहन को भाई की चालाकी समझ नहीं आई और उसने खाना खा लिया। एक निवाला खाते ही उसे अपने पति की मृत्यु का समाचार मिला। वह शोक में आकर एक वर्ष तक अपने पति के मृत शरीर के साथ बैठी रही, और मृत शरीर पर उगने वाली घास को इकट्ठा करती रही। अगले वर्ष, जब कार्तिक कृष्ण चतुर्थी फिर से आई, उसने पूरे अनुष्ठान के साथ करवा चौथ का उपवास किया, जिसके परिणामस्वरूप उसके पति पुनर्जीवित हो गये।

करवा चौथ व्रत की पूजा-विधि

  1. सुबह सूर्योदय से पहले उठकर स्नान आदि करके पूजा घर को साफ़ करे। फिर सास द्वारा दिया गया भोजन लें और निर्जला व्रत का संकल्प के साथ भगवान की पूजा करें।
  2. यह व्रत शाम को चांद देखने के बाद ही खोला जाना चाहिए और बीच-बीच में पानी नहीं पीना चाहिए।
  3. संध्या के समय सभी देवताओं को मिट्टी की वेदी पर स्थापित करें। इसमें 10 से 13 करवे (करवा चौथ के लिए विशेष मिट्टी का कलश) रखें।
  4. थाली में पूजा की ये सामग्री धूप, दीप, चंदन, रोली, सिंदूर आदि रखें। दीपक में पर्याप्त मात्रा में घी होना चाहिए, ताकि वह पूरे समय जलता रहे।
  5. चंद्रमा निकलने से लगभग एक घंटे पहले पूजा शुरू कर देनी चाहिए। अच्छा होगा अगर परिवार की सभी महिलाएं एक साथ पूजा करे।
  6. पूजा के समय करवा चौथ कथा सुनें या सुनाएँ।
  7. चंद्रमा के दर्शन एक छलनी के माध्यम से होने चाहिए और साथ ही साथ दर्शन के समय अर्घ्य के साथ चंद्रमा की पूजा करनी चाहिए।
  8. चन्द्र दर्शन के बाद बहू अपनी सास को थाली में मिठाई, फल, मेवे, रूपए आदि भेंट कर उनसे आशीर्वाद ले और सास उसे अखंड सौभाग्यवती होने का आशीर्वाद दे।

करवा चौथ में सरगी

पंजाब में, करवा चौथ का त्योहार सरगी से शुरू होता है। यह करवा चौथ के दिन सूर्योदय से पहले किया जाने वाला भोजन है। इस दिन व्रत रखने वाली महिलाओं की सास उनके लिए सरगी बनाती है। शाम के समय, सभी महिलाएं फेरी समारोह का आयोजन करने के लिए इकट्ठा होती हैं। इस अनुष्ठान में, महिलाएं एक मंडली बना कर बैठती हैं और एक दूसरे को पूजा की थाली देती हैं और उसे गोल घेरे में घुमाती हैं। इस अनुष्ठान के दौरान, एक बुजुर्ग महिला करवा चौथ की कहानी गाती है। गौर माता की पूजा भारत के अन्य राज्यों जैसे उत्तर प्रदेश और राजस्थान में की जाती है। गौ माता की पूजा के लिए मूर्ति को गोबर से बनाया जाता है।

आप सभी को हमारी ओर से करवा चौथ की हार्दिक शुभकामनाएँ!

2021 में करवा चौथ कब है?

करवा चौथ 2021 मुहूर्त

रविवार, 24 अक्टूबर, 2021

करवा चौथ पूजा मुहूर्त : 17:43:11 से 18:50:46 तक

अवधि : 1 घंटे 7 मिनट

करवा चौथ चंद्रोदय समय : 20:07:00