नरक चतुर्दशी


logo min

नरक चतुर्दशी 2021 महत्त्व : 2021 Narak chaturdashi in hindi

आइए जानते हैं कि 2021 में नरक चतुर्दशी कब है और नरक चतुर्दशी की तारीख व मुहूर्त क्या रहेगी। नरका चतुर्दशी कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को मनाया जाने वाला त्योहार है। इसे नरक चौदस, रूप चौदस और रूप चतुर्दशी भी कहा जाता है। पौराणिक मान्यता के अनुसार, इस दिन मृत्यु के देवता यमराज की पूजा करने का विधान है। नरक चतुर्दशी को छोटी दिवाली भी कहा जाता है क्योंकि यह दीपावली से ठीक एक दिन पहले मनाई जाती है। नरक चतुर्दशी के दिन शाम को दीपक जलाए जाते हैं। इस दिन यमराज की पूजा करने से अकाल मृत्यु से मुक्ति और बेहतर स्वास्थ्य की कामना की जाती है। इसके अलावा, सुबह सूर्योदय से पहले उठ कर अपने शरीर पर तिल्ली का तेल मलकर और अपामार्ग (चिचड़ी) की पत्तियां पानी में डालकर स्नान करने से नरक के डर से मुक्ति मिलती है और मनुष्य को स्वर्ग की प्राप्ति होती है।

नरक चतुर्दशी का शास्त्रोक्त नियम

दो विभिन्न परंपरा के अनुसार कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को नरक चतुर्दशी मनाई जाती है।

  1. कार्तिक कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी के दिन चंद्र उदय या अरुणोदय (सूर्य उदय से सामान्यत: 1 घंटे 36 मिनट पहले का समय) होने पर नरक चतुर्दशी मनाई जाती है। लेकिन अरुणोदय पर चतुर्दशी मनाने का विधान सबसे ज्यादा प्रचलित है।
  2. यदि दोनों दिन चतुर्दशी तिथि अरुणोदय अथवा चंद्र उदय का स्पर्श करती है तो नरका चतुर्दशी पहला दिन मनाने का विधान है। इसके अलावा अगर चतुर्दशी तिथि अरुणोदय या चंद्र उदय का स्पर्श नहीं करती है तो पहले दिन नरक चतुर्दशी मनाई जानी चाहिए।
  3. नरका चतुर्दशी के दिन, सूर्योदय से पहले चंद्र उदय या अरुणोदय होने पर तेल अभ्यंग (मालिश) और यम तर्पण करने की परंपरा है।

नरक चतुर्दशी पूजन विधि

  1. नरक चतुर्दशी पर सुबह जल्दी (सूर्य उदय) से पहले उठकर स्नान करना महत्वपूर्ण है। इस दौरान शरीर पर तिल के तेल से मालिश करनी चाहिए, इसके बाद सिर के शीर्ष पर अपामार्ग यानी चिराचिरा (औषधीय पौधा) को 3 बार घुमाएं।
  2. नरका चतुर्दशी से पहले कार्तिक कृष्ण पक्ष की अहोई अष्टमी के दिन एक लोटे में जल रखा जाता है। नरक चतुर्दशी के दिन इस लोटे के पानी को नहाने के पानी में मिलाकर स्नान करने की परंपरा है। ऐसा माना जाता है कि ऐसा करने से व्यक्ति को नर्क के भय से मुक्ति मिलती है।
  3. स्नान करने के बाद, दक्षिण दिशा की ओर हाथ जोड़कर यमराज से प्रार्थना करें। ऐसा करने से पुरे साल भर के मनुष्य द्वारा किए गए पाप ख़त्म हो जाते हैं।
  4. इस दिन यमराज के लिए घर के मुख्य दरवाजे के बाहर निमित्त तेल का दीपक लगाएं।
  5. नरक चतुर्दशी के दिन शाम के समय सभी देवताओं की पूजा के बाद, तेल के दीपक जलाएं और उन्हें घर के बाहर और कार्य स्थल के द्वार के दोनों ओर रखें। ऐसा माना जाता है कि ऐसा करने से घर में हमेशा लक्ष्मी का वास होता है।
  6. नरका चतुर्दशी को रूप चतुर्दशी या रूप चौदस भी कहा जाता है, इसलिए रूप चतुर्दशी के दिन भगवान श्रीकृष्ण की पूजा की जानी चाहिए ऐसा करने सौंदर्य प्राप्त होता है ।
  7. इस निशीथ काल (आधी रात के समय) के दौरान, घर से बेकार वस्तुओं को फेंक देना चाहिए। इस परम्परा को दरिद्रय नि: सारण कहा जाता है। ऐसा माना जाता है कि नरका चतुर्दशी के अगले दिन, दीपावली पर लक्ष्मी जी घर में प्रवेश करती हैं, इसलिए दरिद्रय को, अर्थात गंदगी को घर से हटा देना चाहिए।

नरक चतुर्दशी का महत्व और पौराणिक कथाएं

नरक चतुर्दशी पर दीप प्रज्ज्वलन का धार्मिक और पौराणिक महत्व है। इस दिन, दीपक जला कर उसके प्रकाश के अँधेरे को दूर किया जाता है। इसी कारण नरक चतुर्दशी को छोटी दिवाली भी कहा जाता है। नरक चतुर्दशी पर दीप जलाने के संदर्भ में कई पौराणिक और लौकिक मान्यताएं हैं।

राक्षस नरकासुर का वध: प्राचीन काल में नरकासुर नाम का एक दानव अपनी शक्तियों से देवताओं और ऋषियों को परेशान करता था। नरकासुर का अत्याचार इतना बढ़ने लगा कि उसने देवताओं और संतों की 16 हजार महिलाओं को बंधक बना लिया। नरकासुर के अत्याचारों से परेशान होकर सभी देवता और ऋषि भगवान कृष्ण की शरण में गए। इसके बाद, भगवान श्री कृष्ण ने सभी को नरकासुर के आतंक से छुटकारा दिलाने का आश्वासन दिया। नरकासुर को एक महिला के हाथों मरने के लिए शाप दिया गया था, इसलिए भगवान कृष्ण ने अपनी पत्नी सत्यभामा की मदद से कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को नरकासुर का वध किया और 16 हजार महिलाओं को उनकी कैद से आजाद कराया। बाद में ये सभी महिलाएं भगवान श्री कृष्ण की 16 हजार पट रानियां के रूप में जानी जाने लगीं।
नरकासुर के वध के बाद, लोगों ने कार्तिक मास की अमावस्या के दिन अपने घरों में दीपक जलाए और तब से नरक चतुर्दशी और दीपावली का त्योहार मनाया जाने लगा।

दैत्यराज बाली की कथा: एक अन्य पौराणिक कथा में, भगवान कृष्ण द्वारा देवी बाली को प्राप्त वरदान का उल्लेख है। ऐसा माना जाता है कि भगवान विष्णु जी ने वामन अवतार के समय त्रयोदशी से अमावस्या के बीच राक्षस राजा बलि के राज्य को 3 चरणों में मापा था। राजा बलि, जो सर्वोच्च दाता थे, यह देखकर, उन्होंने अपना पूरा राज्य भगवान वामन को दान कर दिया। इसके बाद, भगवान वामन ने बाली से वरदान मांगने के लिए कहा। दैत्यराज बलि ने कहा हे भगवान, त्रयोदशी से अमावस्या की अवधि में इन तीनों दिनों में हर वर्ष मेरा राज्य रहना चाहिए। इस दौरान, मेरे राज्य में दिवाली मनाने वाले मनुष्यों के घरो में लक्ष्मी का वास हो और चतुर्दशी पर नरक के लिए दीप दान करे , उनके सभी पूर्वज नरक में ना रहें और ना उन्हें यमराज यातना ना दें।
राजा बलि की बात सुनकर भगवान वामन प्रसन्न हुए और उन्हें वरदान दिया और इस वरदान के बाद से ही नरक चतुर्दशी व्रत, पूजन और दीपदान का प्रचलन शुरू हुआ।

हिंदू और धार्मिक रूप से पौराणिक महत्व के कारण, नरक चतुर्दशी का हिंदू धर्म में बहुत महत्व है। यह पांच त्योहारों की एक श्रृंखला के बीच में एक त्योहार है। दीपावली से दो दिन पहले, धन तेरस, नरक चतुर्दशी या छोटी दीपावली और फिर दीपावली, गोवर्धन पूजा और भाई दूज मनाई जाती है। यमराज के लिए नरक चतुर्दशी पर दान और प्रार्थना करने से व्यक्ति को नर्क के भय से मुक्ति मिलती है।

2021 में नरक चतुर्दशी कब है?

नरक चतुर्दशी 2021 का मुहूर्त

गुरुवार, 4 नवंबर, 2021

अभ्यंग स्नान समय : 06:06:05 से 06:34:53 तक

अवधि : 0 घंटे 28 मिनट