रक्षा बंधन


logo min

रक्षाबंधन राखी मुहूर्त 2021 | Raksha Bandhan Muhurt 2021

आइए जानते हैं कि 2021 में रक्षाबंधन कब है और रक्षाबंधन की तारीख व मुहूर्त क्या रहेगा। रक्षाबंधन का त्योहार हर साल श्रावण मास की पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है। श्रावण मास की पूर्णिमा को राखी पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है। यह त्योहार भाई बहेंनो के बिच के प्यार का दर्शाता है। इस दिन, बहनें भाइयों की समृद्धि के लिए अपनी कलाई पर रंगीन राख बाँधती हैं, वहीं भाई बहेंनो उनकी रक्षा करने का वचन देते हैं। कुछ क्षेत्रों में इस त्योहार को राखरी भी कहा जाता है। यह सबसे बड़े हिंदू त्योहारों में से एक है।

रक्षाबंधन मुहूर्त

रक्षा बंधन का त्यौहार श्रावण मास में उस दिन मनाया जाता है जिस दिन पूर्णिमा अपराह्ण काल में पड़ रही हो। हालाँकि, इन नियमों को ध्यान में रखना आप सभी के लिए आवश्यक है:-

  1. यदि पूर्णिमा के दौरान दोपहर के समय में भद्रा होती है, तो रक्षाबंधन नहीं मनाया जाना चाहिए। ऐसी स्थिति में, यदि पूर्णिमा अगले दिन के पहले तीन मुहूर्तों में है, तो उत्सव के सभी अनुष्ठान अगले दिन की दोपहर में किए जाने चाहिए।
  2. लेकिन अगर पूर्णिमा अगले दिन के पहले 3 मुहूर्तों में नहीं है, तो रक्षा बंधन पहले दिन भद्रा के बाद, प्रदोष काल के उत्तरार्ध में मनाया जा सकता है।

हालांकि पंजाब जैसे कुछ क्षेत्रों में दोपहर की अवधि को अधिक महत्वपूर्ण नहीं माना जाता है, इसलिए आम तौर पर दोपहर से पहले राखी का त्योहार मनाने की प्रथा है। लेकिन शास्त्रों के अनुसार, भद्रा होने पर रक्षाबंधन मनाना पूरी तरह से वर्जित है, चाहे कोई भी स्थिति क्यों न हो।

यह त्योहार बिना किसी पाबंदी के मनाया जाता है जब ग्रहण सूतक या संक्रांति होता है।

राखी पूर्णिमा की पूजा-विधि

रक्षा बंधन के दिन बहनें भाइयों की कलाई पर रक्षा-सूत्र या राखी बांधती हैं। वे भाइयों की दीर्घायु, समृद्धि और खुशी की भी कामना करती हैं।

रक्षा-सूत्र या राखी बांधते समय, निम्नलिखित मंत्र का पाठ किया जाता है,  जिसे पढ़कर पुरोहित भी यजमानों को रक्षा-सूत्र बांध सकते हैं–

ॐ येन बद्धो बली राजा दानवेन्द्रो महाबलः।
तेन त्वामपि बध्नामि रक्षे मा चल मा चल।।

इस मंत्र के पीछे एक महत्वपूर्ण कहानी भी है, जिसे रक्षाबंधन की पूजा के दौरान पड़ा जाता है। एक बार, धर्मराज युधिष्ठिर ने भगवान कृष्ण से इस कहानी को सुनने की इच्छा व्यक्त की, जो सभी कष्टों से मुक्ति दिलाती है। उनके इस इच्छा को पूरा करने के लिए, श्री कृष्ण ने उन्हें यह कहानी सुनाई-

प्राचीन काल में, देवों और असुरों के बीच लगातार 12 वर्षों तक संघर्ष हुआ था। ऐसा लगता था कि असुर युद्ध में जीतने वाले थे। राक्षसों के राजा ने तीनों लोकों पर कब्जा कर लिया था और खुद को त्रिलोक का स्वामी साबित कर दिया था। राक्षसों से परेशान देवराज इंद्र गुरु बृहस्पति की शरण में पहुंचे और रक्षा के लिए प्रार्थना की। श्रावण पूर्णिमा के दिन प्रातः काल रक्षा-विधान पूरी हुई।

इस विधान में, गुरु बृहस्पति ने उल्लिखित मंत्र का पाठ किया; साथ ही, इंद्र और उनकी पत्नी ने भी इस मंत्र को  दोहराया। इंद्राणी की पत्नी इंद्राणी ने रक्षा-सूत्र में सभी ब्राह्मणों से शक्ति का संचार कराया और इंद्र के दाहिने हाथ की कलाई पर उसे बांध दिया। इस सूत्र से प्राप्त बल के माध्यम से, इंद्र ने असुरों को हराया और खोए हुए शासन को वापस पा लिया।

रक्षा बंधन मनाने का एक अन्य तरीका भी प्रचलित है। महिलाएं सुबह पूजा के लिए तैयार होती हैं और घर की दीवारों पर सोना टाग देती हैं। वे तब सेवई, खीर और मिठाई से उसकी पूजा करती हैं। फिर वे सोने पर राखी का धागा बांधती हैं। जो महिलाएं नाग पंचमी पर गेहूं की बालियां लगाती हैं, उस पौधे को वो पूजा के लिए रखती हैं। अपने भाइयों की कलाई पर राखी बांधने के बाद, वह इन बालियों को भाइयों के कानों पर लगाती हैं।

कुछ लोग इस त्योहार से एक दिन पहले उपवास करते हैं। फिर रक्षाबंधन के दिन वे शास्त्रीय विधि-विधान से राखी बांधते हैं। वे पितृ-तर्पण और ऋषि-पूजन या ऋषि-तर्पण भी करते हैं।

कुछ जगहों में लोग इस दिन श्रवण पूजन भी करते हैं। वहां, यह त्योहार माता-पिता भक्त श्रवण कुमार की याद में मनाया जाता है, जिन्हें गलती से राजा दशरथ ने मार दिया था।

इस दिन भाई अपनी बहनों को विभिन्न उपहार भी देते हैं। यदि कोई वास्तविक बहन नहीं है, तो यह त्योहार चचेरे या  ममेरी बहनों या जिसे आप बहन मानते हो उनके साथ इस त्याहोर को मनाया जा सकता है।

रक्षाबंधन से जुड़ी कथाएँ

हमने राखी के त्योहार से जुड़ी कुछ कहानियां बताई हैं। अब हम आपको कुछ अन्य पौराणिक घटनाएँ बताते हैं जो इस त्योहार से जुड़ी हैं -

  • मान्यताओं के अनुसार, इस दिन द्रौपदी ने अपनी साड़ी से कुछ कपड़ा फाड़कर भगवान कृष्ण के हाथ पर लगी चोट पर उसे बांध दिया था। द्रौपदी की इस उदारता के लिए, श्री कृष्ण जी ने द्रौपदी से वादा किया कि वह हमेशा उनकी रक्षा करेंगे। इसीलिए दुःशासन द्वारा चीरहरण की कोशिश के समय भगवान कृष्ण जी ने आकर द्रौपदी की रक्षा की थी।
  • एक अन्य ऐतिहासिक कथा के अनुसार, चित्तौड़ की रानी कर्णावती ने मुगल सम्राट हुमाँयू से सहायता प्राप्त करने के लिए राखी भेजी थी। हुमाँयू ने राखी का सम्मान किया और अपनी बहन की रक्षा गुजरात के सम्राट से की।
  • ऐसा भी माना जाता है कि इस दिन देवी लक्ष्मी ने सम्राट बाली की हात पर राखी बांधी थी।

आप सभी को रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनाएँ!

2021 में रक्षा बंधन कब है?

रक्षा बंधन 2021 का मुहूर्त

रविवार, 22 अगस्त, 2021

राखी बांधने का मुहूर्त : 06:14:56 से 17:33:39 तक

अवधि : 11 घंटे 18 मिनट

रक्षा बंधन अपराह्न मुहूर्त : 13:41:54 से 16:17:59 तक