उगाडी


logo min

उगादी 2021 की तारीख व मुहूर्त

चलिए जानते हैं कि 2021 में उगादी कब है और उगादी 2021 की तारीख व मुहूर्त। दक्षिण भारत में उगादी हिन्दू नववर्ष के आगमन की ख़ुशी में मनाया जाता है। 2021 के तेलुगू संवत्सर का नाम आनंद 2078 है।

उगादी मुहूर्त

  1. हिन्दू कैलेंडर के तहत युगादी चैत्र माह के शुक्लपक्ष की प्रतिपदा को मनाया जाता है।
  2. प्रतिपदा तिथि सूर्योदय के समय होनी चाहिए।
  3. अगर प्रतिपदा 2 दिनों के सूर्योदयों पर पड़ रही हो तो पहले दिन उगादि का त्यौहार मनाना चाहिए।
  4. यदि प्रतिपदा एक भी सूर्योदय पर नहीं पड़ रही हो तो जिस दिन वह तिथि शुरू हुई है, उस दिन त्यौहार मनाया जाएगा।
  5. युगादि का पर्व अधिक मास में नहीं मनाया जाता है। यह केवल शुद्ध चैत्र माह में मनाया जाता है।

नूतन संवत्सर के स्वामी (वर्षेष)

नव संवत्सर के पहले दिन के स्वामी को पूरे वर्ष के स्वामी का दर्जा दिया जाता है। मंगलवार हिंदू नववर्ष 2078 का पहला दिन है और इस दिन का स्वामी मंगल है। इसलिए इस वर्ष के स्वामी मंगल होंगे।

उगादी का त्यौहार

उगादी त्योहार एक सप्ताह पहले से ही शुरू हो जाता है। लोग अपने घरों को सजाते हैं और त्योहार से संबंधित सभी आवश्यक वस्तुओं को नए कपड़ों के साथ खरीदते हैं। उगादी के दिन, लोग सुबह जल्दी उठते हैं और सूर्योदय से पहले स्नान करते हैं और घर के दरवाजों को आम के पत्तों से बने तोरण से सजाते हैं। आइए अब जानते हैं कि आखिर लोग आम के पत्तों से सजावट क्यों करते हैं:

देवी पार्वती और भगवान शिव जी के पुत्र कार्तिकेय और गणेश जी को आम बहुत पसंद थे। कार्तिकेय भगवान ने लोगों को अपने घर के दरवाजे पर आम के पत्ते लगाने के लिए कहा, जिससे उनके परिवार में सुख-समृद्धि का आगमन होगा और अच्छी फ़सल होगी। तब से यह परंपरा शुरू हुई।

इस दिन लोग अपने घर या बरामदे के सामने गाय के गोबर से मिश्रित पानी का छिड़काव कर रंगोली बनाते हैं। लोग अपनी श्रद्धा के अनुसार अपने इष्ट देवताओं की पूजा करते हैं और मंगल कामना करते हैं।
दक्षिण भारत के लोग उगादि त्योहार बहुत धूमधाम से मनाते हैं। लोग अपने रिश्तेदारों के साथ एक जगह इकट्ठा होते हैं और विभिन्न प्रकार के व्यंजनों का आनंद लेते हैं।

उगादी पर बनने वाले मुख्य व्यंजन

कुछ लोग इस दिन 6 स्वादों वाले व्यंजन खाते हैं। लोगों का मानना है कि जीवन विभिन्न भावनाओं और संवेदनाओं का मिश्रण है, और हर भावना 1 स्वाद की तरह है। इस दिन का सबसे लोकप्रिय और ख़ास व्यंजन उगादी पच्छाड़ी है, जिसमें 6 प्रकार के स्वाद होते हैं। हालांकि, इसे बनाने की सामग्री अलग-अलग क्षेत्रों के अनुसार अलग-अलग होती है। आइए जानते हैं मुख्य रूप से कुछ क्षेत्रों में उपयोग की जाने वाली सामग्रियों के बारे में:

सामग्री स्वाद संवेदना
नीम के फूल और कलियाँ कड़वा उदासी
गुड़ मीठा ख़ुशी
मिर्च तीखा क्रोध
नमक नमकीन डर
इमली का रस खट्टा घृणा
कच्चा आम तेज़ स्वाद आश्चर्य

कर्नाटक के लोग इसे बेवू बेल्ला के रूप में खाते हैं। उगादि पचादी को इस दिन प्रसाद के रूप में खाया जाता है। उगादि के दिन लोग पहले उगादी पचादी खाते हैं। कई जगहों पर लोग नीम की पत्तियों को गुड़ के साथ भी खाते हैं।
इस दिन कई अन्य व्यंजन भी तैयार किए जाते हैं, जिनमें से एक का नाम ओबट्टू / होलिगे / पूरन पोली है।

बाद में दिन में, लोग एक जगह (ज्यादातर मंदिर में) इकट्ठा होते हैं और बड़े-बुज़ुर्गों से नए साल के पंचाग और राशिफल सुनते हैं। कई क्षेत्रों में कवि-सम्मेलन भी आयोजित किए जाते हैं। कुछ लोग इस दौरान अष्टधातुम, शतवाधनाम् और सहस्रवध्नम करते हैं। यह अपने आप में एक अनोखी कला है। इसमें साहित्य के 8,100 या 1000 विशेषज्ञ छंदों का संकेत देते हैं और उस 1 व्यक्ति को उन सभी छंदों को सही क्रम में याद करना होता है और उन्हें कविता के रूप में गाना होता है। यह सम्मेलन के अंत में किया जाता है।

विभिन्न क्षेत्रों में उगादी का त्यौहार

कर्नाटक, केरल, महाराष्ट्र और कोंकणी समुदाय के लोग इसे युगादी कहते हैं, जबकि तमिलनाडु के लोग इसे उगादी और युगादी दोनों के रूप में संदर्भित करते हैं। महाराष्ट्र के अधिकांश लोग इस त्योहार को गुड़ी पड़वा के नाम से मनाते हैं।

अलग-अलग क्षेत्रों में उगादी को निम्नलिखित नामों से जाना जाता है:

  • गोवा और केरल में संवत्सर पड़वा या संवत्सर पड़वो
  • कर्नाटक के कोंकणी लोग युगादी कहते हैं
  • तेलंगाना और आंध्रप्रदेश में उगादी
  • महाराष्ट्र में गुड़ी-पड़वा
  • राजस्थान में थापना
  • कश्मीर में नवरेह
  • मणिपुर में साजिबु नोंगमा पांबा या मेइतेई चेइराओबा
  • उत्तर भारत में चैत्र नवरात्रि आज से शुरू होती है

2021 में उगाडी कब है?

उगादी मुहूर्त 2021

मंगलवार, 13 अप्रैल, 2021

तेलुगु संवत्सर 2078 शुरू

अप्रैल 12, 2021 को 08:02:25 से प्रतिपदा आरम्भ

अप्रैल 13, 2021 को 10:18:32 पर प्रतिपदा समाप्त